यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय नोट्स Class 10

यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय Notes Class 10

महत्वपूर्ण घटनायें:

1. 18वीं सदी में कई देश जैसे जर्मनी, इटली तथा स्विटजरलैंड आदि उस रूप में नहीं थे जैसा कि आज हम इन्हें देखते हैं। ये छोटे-छोटे राज्यों में विभाजित थे जिनका अपना एक स्वतंत्र शासक था।

Europe mein rashtravad ka uday question answer Class 10

2. 1789 की फ्रांसीसी क्रांति- 1789 की फ्रांसीसी क्रांति राष्ट्रवाद की पहली स्पष्ट अभिव्यक्ति थी। इसने फ्रांस में राजतंत्र समाप्त कर प्रभुसत्ता फ्रांसीसी नागरिकों को सौंपी। इस क्रांति से पहले फ्रेंच एक ऐसा राज्य था जिसके संपूर्ण भू-भाग पर एक निरंकुश राजा का शासन था।

3. 1804 की नेपोलियन संहिता- इसे 1804 में लागू किया गया। इसने जन्म पर आधारित विशेषाधिकारों को समाप्त कर दिया। इसने न केवल न्याय के समक्ष समानता स्थापित की बल्कि सम्पत्ति के अधिकार को भी सुरक्षित किया।

4. क्रांतिकारी फ्रांस उदारवादी प्रजातंत्र का पहला राजनीतिक प्रयोग था। वहाँ वोट देने और चुने जाने का अधिकार केवल उन्हीं पुरूषों को था जिनके पास सम्पत्ति थी। सम्पत्ति विहीन पुरुषों और सभी औरतों को राजनीतिक अधिकारों से वंचित रखा गया। केवल थोड़े ही समय के लिए जैकोबिन शासक के समय सभी व्यस्क पुरूषों को मताधिकार प्राप्त था मगर नेपोलियन की संहिता पुन सीमित मताधिकार वापिस लाई और उसमें महिलाओं को अवयस्क दर्जा देते हुए उन्हें पिताओं और पतियों के अधीन कर दिया।

5. वियना कांग्रेस- 1815 में ब्रिटेन, प्रशा, रूस और ऑस्ट्रिया जैसी यूरोपीय शक्तियों (जिन्होंने मिलकर नेपोलियन को हराया था) के प्रतिनिधि यूरोप के लिए एक समझौता तैयार करने के लिए वियना में इकट्ठा हुए जिसकी अध्यक्षता ऑस्ट्रिया के चांसलर ड्यूक मेटरनिख ने की।

6. वर्साय में हुए एक समारोह में प्रशा के राजा विलियम प्रथम को जनवरी 1871 में जर्मनी का सम्राट घोषित कर दिया।

7. 1861 में इमेनुएल द्वितीय को एकीकृत इटली का राजा घोषित किया गया।

8. राष्ट्रवादी संघर्षों में महिलाओं की भूमिका- राष्ट्रवादी आंदोलन में सभी यूरोपीय राज्यों जैसे फ्रांस, इटली की औरतों ने सक्रिय योगदान दिया। महिलाओं ने अपने समाचार पत्र शुरू किए, अनेक स्वतन्त्र राजनैतिक संगठन बनाये और प्रदर्शनों में भाग लिया। इतना होने पर भी उन्हें असेम्बली के चुनावों में मतदान का अधिकार नहीं था।

महत्वपूर्ण शब्दावली :

कुलीन वर्ग – ये जमीन के मालिक व यूरोपीय महाद्वीप का सबसे शक्तिशाली वर्ग था।

निरंकुशवाद- एक ऐसी सरकार या शासन व्यवस्था जिसकी सत्ता पर किसी प्रकार का कोई अंकुश नहीं होता।

उदारवाद – यानि Liberalism शब्द लातिनी भाषा के मूल शब्द liber पर आधारित है। जिसका अर्थ है स्वतंत्रता। नए मध्यम वर्ग के लिए उदारवाद का अभिप्राय था व्यक्ति के लिए आजादी व कानून के समक्ष समानता।

जनमत संग्रह – एक प्रत्यक्ष मतदान जिसके द्वारा एक क्षेत्र की सारी जनता से किसी प्रस्ताव को स्वीकार या अस्वीकार करने के लिए पूछा जाता है।

रूढ़िवाद – एक ऐसा राजनीतिक दर्शन में परंपरा, स्थापित संस्थानो, पौराणिक परंपराओं और रिवाजों पर बल देता है।

यूटोपिया (कल्पनादर्श)- एक ऐसे समाज की कल्पना जो इतना आदर्श है कि उसका साकार होना लगभग असंभव होता है।

रूमानीवाद – एक ऐसा सांस्कृतिक आंदोलन जो एक खास तरह की राष्ट्रीय भावना का विकास करना चाहता था।

नारीवाद- स्त्री-पुरूष को सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक समानता की सोच के आधार पर महिलाओं के अधिकारों और हितों का बोध नारीवादी है।

जुंकर्स- प्रशा की एक सामाजिक श्रेणी का नाम जिसमें बड़े-बड़े जमींदार शामिल थे।

जॉलवेराइन – यह एक जर्मन शुल्क संघ था जिसमें अधिकांश जर्मन राज्य शामिल थे। यह संघ 1834 में प्रशा की पहल पर स्थापित हुआ था। इसमें विभिन्न राज्यों के बीच शुल्क अवरोधों को समाप्त कर दिया गया और मुद्राओं की संख्या दो कर दी जो पहले बीस से भी अधिक थी यह संघ जर्मनी के आर्थिक एकीकरण का प्रतीक था।

महत्वपूर्ण व्यक्ति-

1. ज्यूसेपे मेत्सिनी – इटली का एक महान क्रांतिकारी जिसने “यंग इटली” नामक आंदोलन चलाया और जिसके फलस्वरूप इटली में एकीकरण की भावना को बल मिला। वह राजतन्त्र के घोर विरोधी थे।

2. गैरीबाल्डी – इटली का महान क्रांतिकारी जो मेत्सिनी का सहयोगी व समकालीन था। उसने लाल कुर्ती नामक सेना तैयार की जिसकी सहायता से उसने ऑस्ट्रिया को हराया। उसने इटली की स्वतंत्रता के लिए कई आंदोलन किए।

3. कावूर- कावूर को इटली का बिस्मार्क माना जाता है। वह इटली के सार्डिनिया राज्य का प्रधानमंत्री था। उसने सर्वप्रथम अपने राज्य को इटली में मिलाने का कार्य किया।

4. बिस्मार्क – जर्मनी के इतिहास में अद्वितीय स्थान प्राप्त है। उसने जर्मनी के एकीकरण के लिए ‘रक्त तथा लौह की नीति अपनाई। उसके प्रयासों से ही जर्मनी का एकीकरण संभव हुआ।

प्रतीकों का अर्थ

प्रतीकमहत्त्व
1. टूटी हुई बेड़ियाँ1. आजादी मिलना
2. बाज छाप वाला कवच2. जर्मन समुदाय की प्रकृति शक्ति
3. बलूत पत्तियों का मुकुट3. वीरता
4. तलवार4. मुकाबले की तैयारी
5. तलवार पर लिपटी जैतून की डाली5. शांति की चाह
6. काला, लाल और सुनहरा तिरंगा6. 1848 में उदारवादी राष्ट्रवाद का झंडा, जिसे जर्मन राज्यों के ड्यूक्स ने प्रतिबंधित कर दिया
7. उगते सूर्य की किरणें7. एक नए युग का सूत्रपात

More Articles

Vikas Class 10 notes in hindi

मुद्रा और साख प्रश्न और उत्तर Class 10

3 thoughts on “यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय नोट्स Class 10”

Leave a Reply

%d bloggers like this: