लोकतंत्र के परिणाम प्रश्न और उत्तर Class 10

NCERT Solutions for Class 10 Social Science in Hindi Medium Loktantra ke parinam Questions and Answers

प्रश्न1. लोकतंत्र किस तरह उत्तरदायी, जिम्मेवार और वैध सरकार का गठन करता है? 

उत्तर: लोकतंत्र उत्तरदायी, जिम्मेवार और वैध सरकार का गठन करता क्योंकि लोकतंत्र में जो सरकार होती है। वह लोगों द्वारा चुनावी प्रक्रिया से चुनी जाती हैं। जो लोगों के लिए कार्य करती हैं और अगर सही प्रकार से कार्य ना कर पाए तो लोगों के पास अगले चुनाव में दूसरी सरकार चुनने का अवसर होता है। 

प्रश्न2. लोकतंत्र किन स्थितियों में सामाजिक विविधता को सँभालता है और उनके बीच सामंजस्य बैठाता है?

उत्तर: लोकतंत्र निम्नलिखित स्थितियों में सामाजिक विविधता को संभालता है और उनके बीच सामंजस्य बैठा था:

१. लोकतंत्र विभिन्न भाषा बोलने वाले लोगों को भी उनकी अपनी भाषा विकसित करने का मौका देता है।

२. लोकतंत्र में ही यह संभव है की चाहे कोई गरीब हो या अमीर वोट करने का अधिकार सबको है।

३. लोकतंत्र में ही यह संभव है कि पुरुषों के साथ साथ महिलाओं को भी वोट का बराबर अधिकार है।

प्रश्न3. निम्नलिखित कथनों के पक्ष या विपक्ष में तर्क दें:

● औद्योगिक देश ही लोकतान्त्रिक व्यवस्था का भार उठा सकते हैं पर गरीब देशों को आर्थिक विकास करने के लिए तानाशाही चाहिए। 

● लोकतंत्र अपने नागरिकों के बीच की असमानता को कम नहीं कर सकता। 

● गरीब देशों की सरकार को अपने ज्यादा संसाधन गरीबी को कम करने और आहार, कपड़ा, स्वास्थ्य तथा शिक्षा पर लगाने की जगह उद्योगों और बुनियादी आर्थिक ढाँचे पर खर्च करने चाहिए।

● नागरिकों के बीच आर्थिक असमानता अमीर और गरीब दोनों तरह के लोकतांत्रिक देशों में है। 

● लोकतंत्र में सभी को एक ही वोट का अधिकार है। इसका मतलब है कि लोकतंत्र में किसी तरह का प्रभुत्व और टकराव नहीं होता।

उत्तर: ● यह कथन गलत है कि औद्योगिक देश ही लोकतांत्रिक व्यवस्था का भार उठा सकते हैं। हो सकता है की तानाशाही देशों में आर्थिक दर लोकतांत्रिक देशों से कुछ अच्छी हो। परंतु वहां मूल्यों का अभाव होता है। निरादर की अच्छे जीवन से आदर का साधारण जीवन कहीं अच्छा है।

यह कथन गलत है। सरकार द्वारा कई नीतियां शुरू की गई है जो नागरिकों के बीच असमानता को कम कर रही है। जैसे: न्यूनतम मजदूरी अधिनियम जिसने प्रति व्यक्ति आय बढ़ाने में मदद की है।

● यह कहना ठीक नहीं है क्योंकि गरीब देशों की सरकार और दोनों प्राकृतिक और मानव संसाधनों के विकास पर ध्यान देना चाहिए। 

यह कथन बिल्कुल सत्य है कि नागरिकों के बीच आर्थिक असमानता अमीर और गरीब दोनों तरह के लोकतांत्रिक देशों में है। वास्तविक जीवन में लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं आर्थिक समानता को कम करने में अधिक सफल नहीं हो पाई है।

हां यह कथन सत्य है, क्योंकि चुनाव लड़ने वालों को अमीर और गरीब दोनों के वोट चाहिए होते हैं। इसलिए राजनीतिक पार्टियां भी हर एक की भावनाओं को ध्यान में रखती है।

प्रश्न4. नीचे दिए गए ब्यौरों में लोकतंत्र की चुनौतियों की पहचान करें ये स्थितियाँ किस तरह नागरिकों के गरिमापूर्ण, सुरक्षित और शांतिपूर्ण जीवन के लिए चुनौती पेश करती हैं। लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए नीतिगत संस्थागत उपाय भी सुझाएँ :

(क) उच्च न्यायालय के निर्देश के बाद ओड़िसा में दलितों और गैर दलितों के प्रवेश के लिए अलग-अलग दरवाजा रखने वाले एक मंदिर को एक ही दरवाजे से सबको प्रवेश की अनुमति देनी पड़ी। 

(ख) भारत के विभिन्न राज्यों में बड़ी संख्या में किसान आत्महत्या कर रहे हैं। 

(ग) जम्मू-कश्मीर के गंडवारा में मुठभेड़ बताकर जम्मू-कश्मीर पुलिस द्वारा तीन नागरिकों की हत्या करने के आरोप को देखते हुए इस घटना के जाँच के आदेश दिए गए।

उत्तर: (क) उच्च न्यायालय द्वारा एक ही दरवाजे से सब को प्रवेश की अनुमति देना एक उचित और न्याय पूर्ण कार्य है इससे आपसी भेदभाव की भावना कम होगी।

(ख) भारत के विभिन्न राज्यों में जो किसान आत्महत्या कर रहे हैं यह एक गंभीर चिंता का विषय है।

ऐसा ना हो इसके लिए हमें उन कारणों को जानना होगा जिनके कारण किसान आत्महत्या कर रहे हैं जैसे फसलों का नष्ट हो जाना, कर्ज न लोटापाना आदि।

(ग) यह एक उचित निर्णय है क्योंकि लोगों को सरकारी नौकरशाही की ज्यादा क्यों से बचाना भी लोकतंत्र का उत्तरदायित्व है।

प्रश्न5. लोकतान्त्रिक व्यवस्थाओं के संदर्भ में इनमें से कौन-सा विचार सही है लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं ने सफलतापूर्वक : 

(क)  लोगों के बीच टकराव को समाप्त कर दिया है।

(ख) लोगों के बीच की आर्थिक असमानताएँ समाप्त कर दी हैं।

(ग) हाशिए के समूहों से कैसा व्यवहार हो. इस बारे में सारे मतभेद मिटा दिए हैं।

(घ) राजनीतिक गैर बराबरी के विचार को समाप्त कर दिया है।

उत्तर: (घ) राजनीतिक गैर बराबरी के विचार को समाप्त कर दिया है।

प्रश्न6. लोकतंत्र के मूल्यांकन के लिहाज से इनमें कोई एक चीज लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं के अनुरूप नहीं है। उसे चुनें:

(क) स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव

(ख) व्यक्ति की गरिमा

(ग) बहुसंख्यकों का शासन

(घ) कानून से समक्ष समानता

उत्तर: (ख) व्यक्ति की गरिमा

प्रश्न7. लोकतांत्रिक व्यवस्था के राजनीतिक और सामाजिक असमानताओं के बारे में किए गए अध्ययन बताते हैं कि-

(क) लोकतंत्र और विकास साथ ही चलते हैं।

(ख) लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं में असमानताएँ बनी रहती हैं।

(ग) तानाशाही में असमानताएँ नहीं होती।

(घ) तानाशाहियाँ लोकतंत्र से बेहतर साबित हुई हैं।

उत्तर: (ख) लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं में असमानताएँ बनी रहती हैं।

प्रश्न8. नीचे दिए गए अनुच्छेद को पढ़ें: 

नन्नू एक दिहाड़ी मजदूर है वह पूर्वी दिल्ली की एक झुग्गी बस्ती वेलकम मजदूर कॉलोनी में रहता है। उसका राशन कार्ड गुम हो गया और जनवरी 2006 में उसने डुप्लीकेट राशन कार्ड बनाने के लिए अर्जी दी। अगले तीन महीना तक उसने राशन विभाग के दफ्तर के कई चक्कर लगाए लेकिन वहाँ तैनात किरानी और अधिकारी उसका काम करने या उसके अर्जी को स्थिति बताने की कौन कहे उसको देखने तक के लिए तैयार न थे। आखिरकार उसने सूचना के अधिकार का उपयोग करते हुए अपनी अर्जी की दैनिक प्रगति का ब्यौरा देने का आवेदन किया। इसके साथ ही उसने इस अर्जी पर काम करने वाले अधिकारियों के नाम और काम न करने की सूरत में उनके खिलाफ़ होने वाली कार्रवाई का ब्यौरा भी माँगा सूचना के अधिकार वाला आवेदन देने के हफ्ते भर के अंदर खाद्य विभाग का एक इंस्पेक्टर उसके घर आया और उसने नन्नू को बताया कि तुम्हारा राशन कार्ड तैयार है और तुम दातर आकर उसे ले जा सकते हो। अगले दिन जब नन्नू राशन कार्ड लेने गया तो उस इलाके के खाद्य और आपूर्ति विभाग के सबसे बड़े अधिकारी ने गर्मजोशी से उसका स्वागत किया। इस अधिकारी ने उसे चाय की पेशकश की और कहा कि अब आपका काम हो गया है इसलिए सूचना के अधिकार वाला अपना आवेदन आप वापस ले लें।

नन्नू का उदाहरण क्या बताता है? नन्नू के इस आवेदन का अधिकारियों पर क्या असर हुआ? अपने माँ-पिताजी से पूछिए कि अपनी समस्याओं के लिए सरकारी कर्मचारियों पास जाने का उनका अनुभव कैसा रहा है।

उत्तर: नन्नू का उदाहरण बताता है, कि हर नागरिक को अपने अधिकारों के प्रति जागृत होना चाहिए ताकि वह उनका उचित प्रयोग कर सकें।
नन्नू के आवेदन का अधिकारियों पर इतना गहरा प्रभाव पड़ा कि वह एकदम हरकत में आ गए और उन्होंने ना केवल उसका नया कार्ड बनाया बल्कि आवेदन वापस लेने के लिए निवेदन भी करने लगे।

(विद्यार्थी अपने माता पिता के अनुभव लिखें।)

Leave a Reply

%d bloggers like this: